Jogniya Mata Temple Chitodgarh जोगणिया माता मंदिर इतिहास मेला चित्तौड़गढ़

श्री-जोगणिया-माताजी-फोटो

चित्तौड़गढ़ से लगभग 85 किलोमीटर दूर और उपरमाल के पठार के दक्षिण की छोर की तरफ जोगनिया माता का प्राचीन मंदिर स्थित है। जोगनिया माता मंदिर हाडा चौहानों की कुलदेवी है और इस मन्दिर को स्थानीय निवासी आठवी शताब्दी में निर्मित होना मानते है। मंदिर से तक़रीबन एक किलोमीटर दूर प्राचीन बम्बावदे गढ़ के अवशेष … Read more

Bhanwal Mata Temple भंवाल माता मंदिर मदिरा का भोग मेला इतिहास

श्री-भंवाल-माता-जी-image

भंवाल माता का मंदिर राजस्थान के नागौर जिले की मेड़ता तहसील में भंवाल गाँव में स्थित है। यहाँ माता काली व ब्राह्मणी दो स्वरूप में पूजी जाती है। राजस्थान की धरा में वैसे तो कई चमत्कारिक मंदिरों का जिक्र मिलता है। लेकिन यह एक अनूठा चमत्कारिक मंदिर (Bhanwal Mata Temple)जहां भक्तों की मान्यता के आगे … Read more

Nakoda Bhairav Temple नाकोड़ा भैरव व पार्श्व जैन मंदिर इतिहास रास्ता

नाकोड़ा-भैरव-मन्दिर-image

नाकोड़ा भैरव व पार्श्व जैन मंदिर भारत के राजस्थान राज्य के बाड़मेर जिले का एक गाँव है। राजस्थान राज्य सरकार के रिकॉर्ड में गांव का नाम मेवानगर है। इस गांव को इतिहास में अलग-अलग समय में नागरा, वीरमपुरा और महेवा के नाम से जाना जाता था। जब नकोड़ा पार्श्वनाथ जैन मंदिर बनाया गया तो इस … Read more

Jeen Mata Temple Sikar जीण माता मंदिर स्थान कुलदेवी रास्ता इतिहास हर्ष भैरवनाथ मंदिर Jeen mata distance

जीण-माता-image

जीण माता राजस्थान के सीकर जिले में रेवसा गांव से 10 किमी पहाड़ी के पास स्थित है। यह सीकर से 29 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है। यहाँ पर श्री जीण माता जी (शक्ति की देवी) का एक प्राचीन मन्दिर स्थित है। जीणमाता का यह पवित्र मंदिर सैकड़ों वर्ष पुराना माना जाता है। राजस्थान की राजधानी … Read more

गुरू जम्भेश्वर भगवान जन्म स्थान पीपासर मेला नियम मुक्ति धाम मुकाम

मुक्ति-धाम-मुकाम-image

गुरू जम्भेश्वर बिश्नोई संप्रदाय के संस्थापक थे। ये जाम्भोजी के नाम से भी जाने जाते है। इनका जन्म राजस्थान के नागौर परगने के पीपासर गांव में एक राजपूत परिवार में विक्रमी संवत् 1508 सन 1451 भादवा वदी अष्टमी को अर्धरात्रि कृतिका नक्षत्र में हुआ था। इन्होंने विक्रमी संवत् 1542 सन 1485 मे बिश्नोई पंथ की … Read more

बाबा रामदेव जी मन्दिर स्थान मेला कथा रास्ता चमत्कार रामदेवरा

बाबा-रामदेव-जी-समाधि-स्थल-रामदेवरा.image

रामदेव जी (बाबा रामदेव, रामसा पीर, रामदेव पीर) का जन्म क्षत्रिय राजपूत तंवर जाति में हुआ था। राजस्थान के एक लोक देवता हैं जिनकी पूजा सम्पूर्ण राजस्थान व गुजरात समेत कई भारतीय राज्यों में की जाती है। इनके समाधि-स्थल रामदेवरा (जैसलमेर) पर भाद्रपद माह शुक्ल पक्ष द्वितीया से दसमी तक भव्य मेला लगता है, जहाँ … Read more

पाबूजी राठौड़ जीवनी कथा इतिहास मेला स्थान

पाबूजी-महाराज-कोलू-image

पाबूजी राजस्थान के लोक-देवता हैं। वे 14वीं शताब्दी में राजस्थान में जन्मे थे। पाबु जी को पशु-प्रेमी परम् गौभक्त तथा प्लेग रक्षक देवता के रूप में पूजा जाता है। ऐसी भी मान्यता है की राजस्थान में ऊँटो के बीमार होने तथा ऊँटो के देवता के रूप में पाबूजी की पूजा होती है। पाबूजी की जीवनी  … Read more

गोगाजी मन्दिर जन्म स्थान धाम दोहा रास्ता साँपो के देवता मेला

गोगाजी-मंदिर-गोगामेड़ी-photo

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले का एक शहर गोगामेड़ी है। गोगाजी चौहान राजस्थान के लोक देवता हैं जिन्हे जाहर वीर के नाम से भी जाना जाता है। यहां भादों कृष्णपक्ष की नवमी को गोगाजी देवता का मेला भरता है। इन्हें हिन्दू और मुसलमान दोनो पूजते हैं। गुजरात मे रेबारी जाती के लोग गोगाजी को गोगा महाराज … Read more

करणी माता मंदिर, बीकानेर सफ़ेद चूहों काबा वाली देवी कुलदेवी इतिहास कथा रास्ता

करणी-माता-मंदिर-देशनोक

करणी माता मंदिर के रूप में लोकप्रिय, यह मंदिर बीकानेर में पर्यटकों के आकर्षण का सबसे बड़ा केंद्र है। यह मंदिर करणी माता को समर्पित है, जो स्थानीय लोगों का मानना है कि हिंदू धर्म में रक्षा करने वाली देवी दुर्गा का एक अवतार है। करणी माता चारण जाति के एक हिंदू योद्धा ऋषि थे, … Read more