जमवाय माता मंदिर जयपुर इतिहास कथा कुलदेवी रास्ता मेला रामगढ़ बांध कहानी

जयपुर के नज़दीक और रामगढ झील से एक किलोमीटर आगे पहाड़ी की तलहटी में जमवाय माता का मन्दिर जयपुर बना हुआ है। आज भी देश के विभिन्न हिस्सों में बसे कछवाह वंश के लोगों की आस्था का केन्द्र बना हुआ है। जमवाय माता मंदिर जयपुर कुलदेवी होने से नवरात्र एवं अन्य अवसरों पर देशभर में बसे कछवाह वंश के लोग यहां आते हैं। और मां को प्रसाद, पोशाक एवं सोलह शृंगार का सामान भेंट करते हैं।

राज्यारोहण व बच्चों के मुंडन संस्कारों के लिए कछवाहा वंश के लोग यहां आते हैं। कछवाहों के अलावा यहां अन्य समाजों के लोग भी मन्नत मांगने आते हैं। यहां पास ही में रामगढ़ झील एवं वन्य अभयारण्य होने से पर्यटक भी बड़ी संख्या में आते हैं। मंदिर के गर्भगृह में मध्य में जमवाय माता की प्रतिमा है। दाहिनी ओर धेनु एवं बछड़े एवं बायीं ओर मां बुढवाय की प्रतिमा स्थापित है। मंदिर परिसर में शिवालय एवं भैरव का स्थान भी है। प्राचीन मान्यता के अनुसार राजकुमारों को रनिवास के बाहर तब तक नहीं निकाला जाता था तब तक कि जमवाय माता मंदिर के धोक नहीं लगवा ली जाती थी।  

जमवाय-माता-मन्दिर

जमवाय माता का मंदिर कहां है

यह स्थान जयपुर से लगभग तीस किलोमीटर दूर पूर्व में रायसर आंधी जाने वाले रास्ते पर रामगढ़ नामक गांव में स्थित है । यह कई वर्षों पुराना देखने योग्य स्थान है। जमवाय माता मंदिर के पास ही रामगढ़ नामक बांध बना हुआ है? जो कई वर्षों पूर्व जयपुर क्षेत्र की पानी की पूर्ति करता था। अन्य कई छोटे-मोटे मंदिर भी बने हुए हैं।

बुटाटी धाम जहा लकवा (paralysis) के मरीज परिक्रमा लगाने से ठीक होते हैं 

जमवाय माता मंदिर का मेला कब लगता हैं

नवरात्र में यहां पर मेले जैसा माहौल रहता है। यह मंदिर रोचक कथा के इतिहास को समेटे हुए है। कछवाहों के अलावा यहां अन्य समाजों के लोग भी मन्नत मांगने आते हैं। यहां पास ही में रामगढ़ झील एवं वन्य अभयारण्य होने से पर्यटक भी बड़ी संख्या में आते हैं।

जमवाय-माता

जमवाय माता मंदिर रामगढ़ का निर्माण

जमवाय माता मंदिर जयपुर के पुजारी बताते हैं कि दुल्हरायजी ने ग्यारवी सदी के अंत में मीणों से युद्ध किया। शिकस्त खाकर वे अपनी फौज के साथ में बेहोशी की अवस्था में रणक्षेत्र में गिर गए। राजा समेत फौज को रणक्षेत्र में पड़ा देखकर विपक्षी सेना खुशी में चूर होकर खूब जश्न मनाने लगी। रात्रि के समय देवी बुढवाय रणक्षेत्र में आई और दुल्हराय को बेहोशी की अवस्था में पड़ा देख उसके सिर पर हाथ फेर कर कहा- उठ खड़ा हो। तब दुल्हराय खड़े होकर देवी की स्तुति करने लगे।

लोक देवता वीर तेजाजी महाराज का यह भव्य मंदिर नागौर

फिर माता बुढ़वाय बोली कि आज से तुम मुझे जमवाय के नाम से पूजना और इसी घाटी में मेरा मंदिर बनवाना। तेरी युद्ध में विजय होगी । तब दुल्हराय ने कहा कि माता, मेरी तो पूरी फौज बेहोश है। माता के आशीर्वाद से पूरी सेना खड़ी हो गई। दुल्हराय रात्रि में दौसा पहुंचे और वहां से अगले दिन आक्रमण किया और उनकी विजय हुई। वे जिस स्थान पर बेहोश होकर गिरे व देवी ने दर्शन दिए थे। उस स्थान पर दुल्हराय ने जमवायमाता का मंदिर बनवाया। राजा ने अपने आराध्य देव रामचंद्र एवं कुलदेवी जमुवाय के नाम पर जमुवारामगढ़ का नामकरण किया था।

जमुवारामगढ-बांध

राजा कांकील भी युद्ध करते हुए फौज के साथ बेहोश होकर रणक्षेत्र में गिर गया था। तब भी जमवाय माता सफेद धेनु के रूप में आकर अमृत रूपी दूध की वर्षा कर पूरी सेना को जीवित कर दिया। तब मां ने शत्रु पर विजय प्राप्त कर आमेर बसाने की आदेश दिया।

मदर्स डे शायरियां इन हिंदी

2 thoughts on “जमवाय माता मंदिर जयपुर इतिहास कथा कुलदेवी रास्ता मेला रामगढ़ बांध कहानी”

Comments are closed.